शुक्रवार, 19 अगस्त 2011

आया वापस गांधी है ... !!!!










अन्‍ना तुम संघर्ष करो,
हम तुम्‍हारें साथ हैं .. !!!
वंदे मातरम् .. !!!!
इन शब्‍दों की बुलन्‍दी से
मचा गगन में शोर है ... !
सारा भारत अनेकता से एकता के सूत्र में
बंध गया है ... !!

सत्‍य का यह इकलौता शस्‍त्र
जिससे हर भ्रष्‍टाचारी
भयभीत है ....
ये भ्रष्‍टाचार है... ये अत्‍याचार है ..
यह कहने के बजाय हम
बेआवाज हो गये थे
देख के अनदेखा कर गये
सुनकर अनसुना कर गये
उसे पुकारा है अन्‍ना ने
उनकी इस आवाज में ऐसा जोश है
हर हिन्‍दुस्‍तानी नींद से जाग गया है ...!!

स्‍वाधीनता दिवस को फहराया तिरंगा
आज भी लहरा रहा है
बच्‍चे-बच्‍चे के हांथ में ....
देश प्रेम का ऐसा ज़ज्‍बा जागा है
जिसको देखो
वो इस लड़ाई में शामिल है
लंगड़ा भी दौड़ रहा है
गूंगा भी बोल रहा है
ये वो आंधी है
जिसकी बयार हर तरफ बही है
जिसने सिर्फ एक ही बात कही है
मुल्‍क में आया वापस गांधी है ... !!!!



26 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल सही कहा आपने अपने देश का यह बदला हुआ रूप ही है

    उत्तर देंहटाएं
  2. हितकारी भावनाओं के रंग से सजी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो अभी इस आंधी की शुरुआत है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया!
    अन्ना जी को ताकत देना, लोकपाल को लाने की।
    आज जरूरत है जन-जन के सोये सुमन जगाने की।।

    आँखे करके बन्द चमन के माली अलसाये हैं,
    नौनिहाल पादप जीवन की बगिया में मुर्झाये हैं,
    आज जरूरत है धरती में, शौर्य बीज उपजाने की।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आयी है अन्ना की आंधी
    जैसे फिर से जन्मे गांधी
    जागो,उठो आवाज़ लगाओ
    भ्रष्ट तंत्र से देश बचाओ

    वन्दे मातरम्

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये वो आंधी है
    जिसकी बयार हर तरफ बही है
    जिसने सिर्फ एक ही बात कही है
    मुल्‍क में आया वापस गांधी है .
    anna jo bhi kar rahe hain ham sabhi ke liye kar rahe hain isliye inke sath hona to swayam khud ke sath hona hai.sundar abhivyakti badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये वो आंधी है
    जिसकी बयार हर तरफ बही है
    जिसने सिर्फ एक ही बात कही है
    मुल्‍क में आया वापस गांधी है ....

    bilkul sahi baat.


    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. आस्था और विश्वास से ओतप्रोत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर बात...
    गांधी का साथ ना छोड़े हम...
    गद्दारों का गुरुर तोड़ें हम....
    मैं भी अन्ना तू भी अन्ना
    सत्य से रिश्ता जोड़ें हम...."

    उत्तर देंहटाएं
  11. उम्मींद पर दुनिया कायम है सही सोंच .....

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर कविता...आज भी भ्रष्टाचार के बीच सदाचार जिन्दा है..कविता बेहद सामयिक और सुन्दर ..देशभक्ति से ओतप्रोत..

    उत्तर देंहटाएं
  13. Ye jo humare anna hain
    Inki bas ek hi tamanna hai
    Fir se aajadi mile hume
    Ek baar fir s
    Bharat sa, Bharat ko banana hai...

    Bahut sundar bhav.. Aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर ,वाह . जितनी तारीफ करूं कम है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. सचमुच अभी तो अन्ना गांधी की भूमिका निभा रहे हैं इस भ्रष्ट-तंत्र में ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये वो आंधी है
    जिसकी बयार हर तरफ बही है
    जिसने सिर्फ एक ही बात कही है
    मुल्‍क में आया वापस गांधी है ... !!!!
    ......देशभक्ति से ओतप्रोत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....