मंगलवार, 1 मार्च 2011

प्रेम सच्‍चा होता है तो ....







निर्मल विचारों से

कितना निखरते हैं रिश्‍ते

प्रेम होता पावन

उनके बंधन के लिये

किसी डोर की

जरूरत नहीं पड़ती

मन से मन का रिश्‍ता

हर धड़कन के साथ

मजबूत होता

सबसे कहता जाता है

हमें परखना

समय की कसौटी पर ....।

दूरियां हमारे बीच

कभी भी दीवार नहीं बनीं

हम आज भी

साथ-साथ चलते हैं

क्‍योंकि हम खुद के लिये नहीं

सिर्फ अपनों के लिये

अपनी खुशी से जीते हैं

इस जुदाई को भी

हम हर गुजरे हुये पल से

रोज सजाते हैं

प्रेम सच्‍चा होता है तो

दूर रहकर भी

पास होने का अहसास होता है ....।

37 टिप्‍पणियां:

  1. आपको पढना एक सुखद अहसास होता है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय सदा जी..
    नमस्कार
    सभी शब्दचित्र सशक्त और सुन्दर हैं!
    छोटी कविता लेकिन बहुत प्रभावपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच्चा प्रेम सच में हर सीमाओं से परे होता है........प्रेम शाश्वत भाव होता है।"बस अपना सबकुछ देना ही प्रेम की सार्थकता है,प्रेम में कुछ पाने कि लालाशा तो रखनी ही नहीँ चाहिए....बस त्याग......बहुत ही सुंदर ढ़ंग से भावों को शब्दों मे सजाया है...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब सदा जी ,
    बहुत अच्छा लिखा है,
    सच्चे प्रेम की कोई सीमा नही होती
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहोत ही अच्छी रचना.
    पढ़ना सुखद लगा .

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut hi pyaari rachna , man ko c hooti hui ...badhayi sweekar kare.

    -----------
    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .
    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.
    """" इस कविता का लिंक है ::::
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html
    विजय

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच्चे प्रेम की सुन्दर परिभाशा। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. samay ki kasauti ke liye shabdikta ka koi arth nahin , wah to khud pata chal hi jata hai

    उत्तर देंहटाएं
  9. यही तो सच्चे प्रेम की परिभाषा होती है……………बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति…………बहुत पसन्द आई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कहा -
    "प्रेम सच्‍चा होता है तो
    दूर रहकर भी
    पास होने का अहसास होता है ....।"

    ऐसे सुन्दर भावों से भरी पोस्ट किसे पसंद न आएगी
    उम्दा रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्चे प्रेम का शक्ति अपरिमित है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच्चे प्रेम की शक्ति अपरिमित है| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  13. 'प्रेम सच्चा होता है तो

    दूर रहकर भी

    पास होने का एहसास होता है'



    यही एहसास तो प्रेम को अमरता की ओर ले जाता है |



    कोमल भावों की सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच्‍चे प्रेम में दूरी नहीं होती। क्‍योंकि वह शरीर से नहीं दिल से किया जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर..सच्चे प्रेम को पूर्णतः परिभाषित कर दिया है..

    उत्तर देंहटाएं
  16. बढ़िया भावनाओं के लिए शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच्चे प्रेम को पूर्ण व्याख्या ...सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच में प्रेम प्रेम ही होता है ..इसका अहसास सब अहसासों से जुदा है ..सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. सच में,

    प्रेम सच्चा होता है तो

    दूर रह कर भी

    पास होने का एहसास होता है!!

    खूबसूरत....

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रेम की अपरिमित सीमाए. और प्रेम का अहसास भी निराला होता है. सुंदर प्रस्तुति. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  21. सच्चे प्यार में ,क्या पास क्या दूर

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक शेर अर्ज हे ---
    "तुम मुझसे दूर रहकर भी मेरे करीब हो,
    आत्मा के रिश्ते टूट नही सकते |"

    बेहद खूब सूरत अभिव्यक्ति |

    उत्तर देंहटाएं
  23. bahut hi sudnar rachna .. pyaare se shabdo me bahut hi achi abhivyakti ..

    badhayi sweekar kare.

    -----------
    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .
    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.
    """" इस कविता का लिंक है ::::
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html
    विजय

    उत्तर देंहटाएं
  24. duabara isiliye aaya ki aapki kavita se mujhe bhi koi prerna mil jaaye .. thanks

    उत्तर देंहटाएं
  25. सच्चे प्रेम को परिभाषित करती खूबसूरत कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रेम के रिश्तों को डोर की जरुरत कैसी ...
    खूबसूरत एहसास !

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....