सोमवार, 28 मार्च 2011

वर्ल्‍ड कप की जीत के नाम ....













दुआ हो सच्‍चे दिल की
तो कभी खाली नहीं जाती
यही वो शय है
जो रब से भी टाली नहीं जाती
ख्‍याल इक जीत का,
उसी ख्‍याल को
हम दुआओं में बदलते हैं
आइये सब मिलकर
एक दुआ करते हैं
भावना जीत की है
जिसमें एक-एक दुआ का
निवेश करते हैं
वर्ल्‍ड कप को
भारत लाने के सपने में
हम सब अपनी - अपनी
दुआओं से सहयोग करते हैं
आइये तो एक दुआ
वर्ल्‍ड कप की जीत के नाम ....
सब मिलकर करते हैं ...!!
!! ... जय हिन्‍द .... !!

17 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर कविता
    हम सब दुआ कर रहे है ईश्वर ने चाहा तो विश्वकप भारत ही जितेगा
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  2. असली फाइनल (सेमीफाइनल) जीत लिया तो दुनिया मुट्ठी में होगी यानी फिर तो जीत पक्की है.

    बहुत अच्छा लिखा है आपने हम भी यही कामना करते हैं.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. indiaaaa ye hai indiaaaaaa ....
    om se hota hai her kaam shuru
    rahti hai yahan jesus kee rooh
    vahe guru
    allah huuuuu india , jitenge - bas de ghuma ke

    उत्तर देंहटाएं
  4. :):) कहा भी गया है कि दवा से ज्यादा दुआ में असर होता है ...आमीन

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दुआ से जीत नहीं मिलती। जो अच्‍छा खेलेगा वह जीतेगा। तो दुआ यह करिए कि भारत के खिलाड़ी अपने पूरे कौशल,विवेक और शांत दिमाग से खेलें। अगर वे खेलेंगे तो भारत जीतेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आद. उत्‍साही जी, आपकी बात से भी सहमत हूं ...पर कोई न कोई रंग दुआ का काम तो करेगा ...चाहे उनके विवेक का या फिर खेल का ..बहुत-बहुत आभार ।।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वर्ल्ड कप उसी के पास आएगा जो उस दिन अच्छा खेलेगा...दुआ करें के हम खेल को खेल भावना से खेलें...और देखें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम भी आपकी इस दुआ में शामिल है . आमीन.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....