मंगलवार, 16 नवंबर 2010

एक नया दर्द .....








दर्द के रिश्‍ते में एक नया दर्द आ गया,

भूलकर हर दर्द जब भी मुस्‍कराना चाहा ।

आंखे ख्‍वाब सजा लेती एक नया फिर से,

जब भी मैने टूटा हुआ ख्‍वाब छुपाना चाहा ।

पलकों पे आंसू मोती बनके चमक उठते,

जब भी तुम्‍हें इस दिल ने भुलाना चाहा ।

लम्‍हे जुदाई के आते जब मुहब्‍बत में

जीने के बदले फक़त मर जाना चाहा ।

टूटे सपने, बहते आंसू, जुदाई के पल ले

यादों की गली से खामोश ही जाना चाहा ।

20 टिप्‍पणियां:

  1. आखें ख्वाब सजा लेतीं एक नया फिर .....वाह बहुत खूबसूरत गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  2. Aah!Ek hara-sa zakhm kureda gaya!Behad sundar likhti hain aap!

    उत्तर देंहटाएं
  3. cटूटे सपने , बहते आँसू , जुदाई के पल्……………बस यही तो अमानत हैं…………………दर्द को शब्द दे दिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. .

    प्रेम में आंसू भी प्रिय लगने लगते हैं।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  5. ख्वाब देखने मे अच्छे लगते हैं मगर दर्द देते हैं। अच्छी लगी रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दर्द की अनुभूति पर अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक एक एहसास को सच्चाई का जामा बहुत सुंदर शब्दों की हिफाज़त से पहनाया है. सुंदर नज़्म.

    उत्तर देंहटाएं
  8. aankhe khwaab saja leti hain ...
    bahut hi lajawaab nazm hai ... dil ki gahraiyon se nikle huve shbd hain ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. दर्द को एक नए अंदाज़ में व्यक्त करना इस गज़ल की खूबी है.अच्छा लगा इसे पढ़ना.

    उत्तर देंहटाएं
  10. 5/10

    सुन्दर भावपूर्ण लेखन
    दर्द का यह अहसास बहुत ख़ास सा है ..
    "टूटे सपने, बहते आंसू, जुदाई के पल ले
    यादों की गली से खामोश ही जाना चाहा ।"

    उत्तर देंहटाएं
  11. आंखे ख्‍वाब सजा लेती एक नया फिर से,
    जब भी मैने टूटा हुआ ख्‍वाब छुपाना चाहा ।
    ...दिल को छु लेने वाली पंक्तियाँ ...हर एक लफ्ज में दर्द है काश यह दर्द न होता ..तो हाल -ए - दिल यह न होता ...सुंदर अभिव्यक्ति
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुन्दर भावनात्मक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  13. दर्द के साथ जीना सीखो
    हंस के गले लगाना सीखो
    दर्द में सुकून ढूंढों
    निरंतर हिस्सा जिन्दगी का
    समझो

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ...............माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. sada, bahut hi sudnar rachna ...padhkar man bhar gaya hai ji


    badhayi

    vijay
    kavitao ke man se ...
    pls visit my blog - poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....