सोमवार, 1 नवंबर 2010

परख लूं ....





फासले आ गये,

मुहब्‍बत में कैसे,

जरूर

इक-दूसरे से

तुमने कुछ

छिपाया होगा …!!

भाग रही थी अपने आप से,

छुपा रही थी वह

खुद को

सवालों से

जिनका जवाब उसे पता था

पर वह बताकर

अपमान नहीं करना चाहती थी

अपने विश्‍वास का …!!

आंखे आंसुओं से सजल

हो उठती थीं जब

कोई कहता था

परख लूं तेरी प्रीत को …!!

30 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत संवेदनशील..... मन के सच्चे भावों की प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. रश्मि जी, एवं आप सबका बहुत-बहुत आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद खूबसूरत एहसासों से भरा ,एक एक पंक्ति कबीले तारीफ है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओह! प्रीत का ये कैसा इम्तिहान्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. संवेदनशील अभिव्यक्ति। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम में ऐसा कोई भी क्षण भारी लगता है... समझ काम करना बंद कर देती है... बहुत ही प्यारी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत संवेदना से भरे एहसास ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रीत भी कोई परखने की चीज़ है ... यह तो त्याग और समर्पण है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना!
    मनोभावों को बहुत ही ईमानदारी से प्रस्तुत किया है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  10. संवेदना है बहुत इस रचना में .. सच है इंसान भागता है अपने आप से ही ... कई ऐसे लम्हे आते हैं इस जीवन में ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर एवं भावपूर्ण अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच कहा तभी फांसले आते है जब कुछ छुपाव शुरू हो जाते हैं.

    सुंदर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  13. परखना तो होगा ही
    भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप को सपरिवार दिवाली की शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रेम में विश्वास जरुरी है ....
    संदेह का कोई अंत नहीं ......

    उत्तर देंहटाएं
  16. Bahut sunder shabd
    Dil ki bhawnayo ko bahut khoobsurti se sajya hai aapne.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कई पुराने पोस्ट भी पढ़े। अच्छा काम हो रहा है आपके ब्लॉग पर। फिर लौटूंगा। जारी रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर भावनात्मक रचना ... प्रीत परखने की नहीं महसूस करने के लिए है

    उत्तर देंहटाएं
  19. Bahut achha laga aapka blog..
    ..sach mein preet ko parakhna kisi vishwasghat se kam nahi..
    Sundar manbhawon kee prastuti...aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत भावुक अनुभूति है
    प्रेम मे फांसले तभी बढते है जब मन मे बात छुपायी जाने लगें

    उत्तर देंहटाएं
  21. सच ही कहा है पर अगर सच्ची प्रीत है तो परखने कि क्या जरुरत आँखों में ही दिख जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  22. pyar me kabhi kuch bhi nahi chupana chahiye
    nahi pyar crash ho jara hai

    उत्तर देंहटाएं
  23. संगदिल है यार मेरा मुझको भी खबर है

    फिर भी यार पे ख़ुशी अपनी लुटा देता हूँ .....

    बहुत खूब .....!!

    बहुत अच्छी नज़्म है सदा जी ....वाह .....!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....