सोमवार, 20 सितंबर 2010

श्रृंगार हो जाती .....


बदल जाती हर सुबह
एक कली की जिंदगी,
वह खिलकर फूल बन जाती
कभी वह चढ़ा दी जाती
किसी देवता के चरणों में
कभी चढ़ा दी जाती
अर्थी पे
कहीं उसकी खुश्‍बू से
महक उठता
घर का कोना-कोना
कभी किसी के बालों का
श्रृंगार हो जाती
इक सुबह‍ आती ऐसी भी
उतार दी जाती
देवता के चरणों से
बिखर जाती किसी के जुल्‍फों में
सजी उसकी पंखड़ी
और अंत हो जाता उसका
सदा के लिए !!

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भाव ....माखन लाल चतुर्वेदी की पंक्तियाँ याद आ गयीं ...फूल की अभिलाषा ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तम विचार, सुंदर चित्र! बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    समझ का फेर, राजभाषा हिन्दी पर संगीता स्वरूप की लघुकथा, पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर औरत का हश्र इन फूलों जैसा ही होता है
    बधाई इस रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन् संचार करती है ... फूल बन के खिलने की प्रेरणा देती है कली .... जबकि जानती है उसका जीवन बहुत छोटा होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्षणभंगूर जीवन का अहसास कराती रचना!!

    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. परिवर्तन संसार का नियम है...लेकिन ऐसा परिवर्तन दुख लाता है. सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह बेहद सुन्दर शब्दों में कलि की व्यथा लिख डाली है आपने...बधाई..

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. kali ke dono paksho ko badi khoobsurati ke saath saamne rakkha hai ,badhiya laga .

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर रचना ...कली जो फूल बन जाती है.......Beautiफूल

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपने तो बहुत सुन्दर कविता लिखी...बधाई.


    _________________________
    'पाखी की दुनिया' में- डाटर्स- डे पर इक ड्राइंग !

    उत्तर देंहटाएं
  12. sada ji,
    bhahut achhi kavita.seedhi-saral-sacchi.

    mera geet apne pasand kiya, iske liye bhi dhanywad.
    rohit g.r.
    rohitkalyaan@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. कली की ज़िन्दगी तो हर पल बदलती है

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....