शुक्रवार, 18 जून 2010

पैरों में पाजेब की तरह .....





आज पहरे पर मुहब्‍बत के नफरत बैठ गई ऐसे,

किसी ने मुहब्‍बत की कीमत अदा कर दी जैसे ।

वफा का सिला बेवफाई प्‍यार के बदले नफरत ये,

लगता किसी गुनाह की सजा मैने पाई हो जैसे ।

बेडि़यां पड़ गई पैरों में पाजेब की तरह मैं चली,

एक कदम भी हौले से तो खनक जाएगी जैसे ।

खुशियों के मेले में गम तन्‍हा मेरे पास अकेला,

रास नहीं आई हो उसे हंसी की महफिल जैसे ।

रूठती गई किस्‍मत जितना मनाया उसको मैने,

छोड़कर फैसला रब पर मैने भी सुकूं पाया जैसे ।

12 टिप्‍पणियां:

  1. Jab doortak koyi nazar nahi aata,tab saath hota hai..bahut sundar rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  2. antim panktiya to bas....

    bahut badhiya manobhaav prastut kiye aapne

    kunwar ji,

    उत्तर देंहटाएं
  3. "LUK-CHHIP KAR JO RAHA KAROGE
    TO FIR KAISE BAAT BANEGI ?
    SAMMUKH AAKAR BAAT KARO TO
    TUMSE MERI BAAT BANEGI "

    उत्तर देंहटाएं
  4. कमाल की रचना ।
    अंतिम फैसला तो रब का ही होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो प्रशंग्सनीय है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी ने मुहब्‍बत की कीमत अदा कर दी जैसे ।

    वाह.....मुहब्बत और दर्द को क्या पिरोया है आपने ....
    क्या बात है .....!!

    रूठती गई किस्‍मत जितना मनाया उसको मैने,
    छोड़कर फैसला रब पर मैने भी सुकूं पाया जैसे ।

    बहुत खूब .....!!

    खुदा के घर देर है अंधेर नहीं .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!हमेशा की तरह बहुत अच्छी है आभार

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....