शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2010

यादें सिमटती गईं ....









सूनी अंधेरी रात में

यादों की गठरी

गिर गई

सारी यादें

धरती पर थीं पड़ी,

मैने उन्‍हें समेट कर

वापस गठरी में

रखना चाहा

पर वे आपस में

मिलकर परिहास करने लगीं

कोई खुद को अच्‍छी कहती

तो कोई खुद को,

सब मेरी हाथों से

दूर होती जा रही थीं

मैं किसी भी एक याद को

छोड़ना नहीं चाहती थी

थक गई जब मैं तो

इन्‍हे समेटने के लिए

मैने आंसुओं का सहारा लिया

हर याद पर एक-एक बूंद

गिरती गई और यादें सिमटती गईं ।

19 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया रहा सदा जी यह यादे समेटने का अंदाज भी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस शानदार रचना पर वाह वाह कहने ’गठरी’ आपके ब्लाग पर आया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दर्द भरी यादों की सिमटना बहुत मुश्किल होता है ....... आँसुओं से ही उठानी पढ़ती हैं ............. बहुत अच्छी रचना .......

    उत्तर देंहटाएं
  4. आँसुओं और यादों का तो गठजोड़ होता ही है

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुमने समझा प्यादे हैं
    मत छूना ये यादें हैं
    यादों को समेटने का यह अन्दाज़ वाह क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत शानदार और सुंदर रचना....

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह सदा जी बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना है
    हर याद पर एक एक बूँद गिरती गयी और यादें सिमटती गयी---- लाजवाब शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. शायद मुझे पूछ हीं लेना चाहिए कि वो नदी कहाँ गयी...

    उत्तर देंहटाएं
  9. amrita pritam ji mujhe bhi bahut bhati hai...aur aapke likhne mein bhi kashish hai..keep it up :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. यादों को गठरी में समेटने की कोशिश न करो.. बहुत कोमल होती हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह वाह क्या बात है! बहुत ख़ूबसूरत पंक्तियाँ! इस लाजवाब रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या कहूँ...अद्भुत भावपूर्ण रचना...वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  13. yado ko sametane ka andaz bhee dil ko choo gaya.....
    bahut bhavibhor kar jane walee rachana hai ye............

    उत्तर देंहटाएं
  14. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत प्रभावशाली रचना सुंदर दिल को छूते शब्द .मनभावन,अद्भुत

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....