शुक्रवार, 22 जनवरी 2010

एक जिन्‍दगी ....










वो जाने क्‍यों

होने लगी कमजोर

मुहब्‍बत का उस पर

असर होने लगा,

सामने होने पर

जिसको न देखा

नजर उठा के,

निगाहें

उसके आने का

रस्‍ता तकने लगी

बातें करती सांसे आपस में

जब तेज-तेज

वह खुद की

हालत से डरने लगी

कैसे बता पाएगी

इन पलों की सरगोशियां

ख्‍यालों के तसव्‍वुर

पे उस अजनबी चेहरे का छा जाना

हौले-हौले होठों का कंपकपाना

छिपा के हथेलियों में चेहरा

फिर मुस्‍कराना,

जैसे एक जिन्‍दगी

का जीकर हर पल खुशी-खुशी

गुजर जाना ।

16 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बहुत सुन्दर दुलहन की तरह रचना भी सुन्दर है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत एहसासों को खूबसूरती से लिखा है....

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरत एहसासों से सजी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो जाने क्‍यों

    होने लगी कमजोर

    मुहब्‍बत का उस पर

    असर होने लगा,.....


    सुन्दर भावाभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  5. Antarim Sanvedanao ko bahut hi sunder dhaung se sajaya hai aapne....Bahut bdadiya!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच में मोहब्बत में ऐसा ही होता है.... पल भर की ख़ुशी में पूरा जहाँ मिल जाता है.....


    बहुत अच्छी लगी यह कविता ... दिल में उतर गई.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. शायद ये प्रेम की इब्त्दा है .......... इस प्रेम में तो जीने की राह है ......... ख्यालों के तस्सवुर में जीना ...... कमाल का लिखा है .........

    उत्तर देंहटाएं
  8. गणतंत्र दिवस की आपको बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना! आपको और आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  10. गणतंत्र दिवस की आपको बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी और सुंदर पंक्तियों के साथ बहुत ..... सुंदर पोस्ट....

    नोट: लखनऊ से बाहर होने की वजह से .... काफी दिनों तक नहीं आ पाया ....माफ़ी चाहता हूँ....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....