शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016

बासन्‍ती पर्व कहलाऊंगा !!!!

बसंत पंचमी को
माँ सरस्‍वती का वंदन
अभिनन्‍दन करते बच्‍चे आज भी
विद्या के मन्दिरों में
पीली सरसों फूली
कोयल कूके अमवा की डाली
पूछती हाल बसंत का
तभी कुनमुनाता नवकोंपल कहता
कहाँ है बसंत की मनोहारी छटा
वो उत्‍सव वो मेले
सब देखो हो गये हैं कितने अकेले
मैं भी विरल सा हो गया हूँ
उसकी बातें सुनकर
डाली भी करूण स्‍वर में बोली
मुझको भी ये सूनापन
बिल्‍कुल नहीं भाता!
...
विचलित हो बसंत कहता
मैं तो हर बरस आता हूँ
तुम सबको लुभाने
पर मेरे ठहरने को अब
कोई ठौर नहीं
उत्‍सव के एक दिन की तरह
मैं भी पंचमी तिथि को
हर बरस आऊंगा
तुम सबके संग माता सरस्‍वती के
चरणों में शीष नवाकर
बासन्‍ती पर्व कहलाऊंगा !!!!
...


7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    माँ शारदा को नमन
    उन्हीं की कृपा से
    कलम..लिख सकती है
    कुछ सही..और
    कुछ गलत भी
    मैं इन्तजार कर रही हूँ

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (13-02-2016) को "माँ सरस्वती-नैसर्गिक शृंगार" (चर्चा अंक-2251) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    बसन्त पंञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया रचना ।

    मेरी २००वीं पोस्ट में पधारें-

    "माँ सरस्वती"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर और सटीक वासंती अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और सटीक वासंती अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर पंक्तियाँ , बसंत का निर्भीक वर्णन

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....