सोमवार, 21 अक्तूबर 2013

वक्‍़त के पन्‍नों पर !!!

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जिंदगी तुम कई बार
मुस्‍कराहटों के मायने बदल देती हो
पढ़ती हो जब भी
वक्‍़त की किताब
सोच में पड़ जाती हो
हर पृष्‍ठ इसका
विस्‍मय की स्‍याही से भरा होता है
जिसके मायने तुम्‍हें भी
झकझोर देते हैं !
....
वक्‍़त के पन्‍नों पर
जिंदगी बारीकी से अपने अनुभव
शब्‍दश: उकेरती
कभी कोई आकृति
मन मस्तिष्‍क पर गढ़ देती
जिसके बिना जीवन का हर पल
बस व्‍यर्थ ही जान पड़ता
फिर भी अगले पृष्‍ठ पर
उम्‍मीद की हल्‍की सी एक लक़ीर
खींचकर तुम
कुछ पंक्तियों को जब रेखांकित करती हो
वो लम्‍हा ज़ज्‍़ब नही होता जब
छलक पड़ती है टप् से
एक बूँद नयनों के कोटर से
फैल जाती है स्‍याही
धुँधला जाते हैं शब्‍द
पर उनके अर्थ बोलते हैं !!!


35 टिप्‍पणियां:

  1. ज़िन्दगी
    मायने न बदले तो जिंदगी बोझिल हो जाये !
    कहते हैं गिरगिट की तरह रंग बदलना खूब आता है …। कभी सोचा है गिरगिट रंग न बदले तो अलग अलग मौसमों को झेलना आसान नहीं होता

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर भी अगले पृष्‍ठ पर
    उम्‍मीद की हल्‍की सी एक लक़ीर
    खींचकर तुम
    कुछ पंक्तियों को जब रेखांकित करती हो .....................

    बहुत बढ़िया!!!
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. कदम-कदम हर मोड़ .... मंजिल बदलती जिन्दगी .....
    बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ..... ज़िन्दगी की उहापोह को लिए सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिंदगी नदी की भांति पत्तर ज्यों शक्त जमीं देख दिशा बदल लेती है ---सुन्दर भाव की अभिवक्ति |
    नई पोस्ट महिषासुर बध (भाग तीन)

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है जिंदगी चौंकाती है हर पल ... नया अर्थ उकेर देती है समय के पन्नों पर ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन में सुख-दुःख दोनों का महत्व है ... सुन्दर सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुख दुख का नाम ही जिन्दगी है,
    सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  9. वो लम्‍हा ज़ज्‍़ब नही होता जब
    छलक पड़ती है टप् से
    एक बूँद नयनों के कोटर से
    मार्मिक....सच में कभी कभी रुला देती हो दीदी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी लिखी रचना मुझे बहुत अच्छी लगी .........
    बुधवार 23/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    में आपकी प्रतीक्षा करूँगी.... आइएगा न....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. फिर भी अगले पृष्‍ठ पर
    उम्‍मीद की हल्‍की सी एक लक़ीर
    खींचकर तुम
    कुछ पंक्तियों को जब रेखांकित करती हो
    वो लम्‍हा ज़ज्‍़ब नही होता जब
    छलक पड़ती है टप् से
    एक बूँद नयनों के कोटर से
    फैल जाती है स्‍याही
    धुँधला जाते हैं शब्‍द

    uff!! bahut sach aur pyare se shabd... behtareen!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. धुँधला जाते हैं शब्‍द
    पर उनके अर्थ बोलते हैं !!!

    गहन अनुभूति से उपजी रचना .....बहुत सुंदर सदा जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. नमस्कार आपकी यह रचना आज मंगलवार (22-10-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. स्मृति के पन्नों में दबे सच में कितने वाकये ऐसे होते है जिसका पुनः स्मरण उन्हें एक नए रूप में प्रस्तुत करता है . तब तक की वैचारिक परिपक्वता शायद उसका सही अर्थ ले आती है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. वक्त के पन्नों पर लिखे हर शब्द के लिये नए सन्दर्भ तलाशना और नए मायने ढूँढना ज़िंदगी की फितरत होती है ! तभी तो एक ही बात के अर्थ सबके लिये अलग-अलग होते हैं ! है ना ! बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  16. धुँधला जाते हैं शब्‍द
    पर उनके अर्थ बोलते हैं !!! lajavaab .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. जिंदगी के अभी ओर भी इम्तेहां बाकि हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. पूरी कविता मन को छूती हुई गुजरती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. जिन्दगी ----मुश्किल परिभाषा ।बस जीते जाना ।हर जिवन का नया फ़साना ।उम्दा रचना ।बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. वक्‍़त के पन्‍नों पर
    जिंदगी बारीकी से अपने अनुभव
    शब्‍दश: उकेरती
    कभी कोई आकृति
    मन मस्तिष्‍क पर गढ़ देती
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. ये बदलाव भी बहुत ज़रूरी है जीवन के प्रवाह को निर्बाध बहने देने के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह यही तो है शायद किताब ज़िंदगी की ... बेहद उम्दा रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  23. अर्थ ही तो बोलते हैं ..बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  24. वक़्त के पन्नों पर लिखी बातें हमें कभी विस्मय कर देते हैं तो कभीं झकजोर देते हैं यही तो है जिंदगी के रंग .......

    उत्तर देंहटाएं
  25. कुछ पंक्तियों को जब रेखांकित करती हो
    वो लम्‍हा ज़ज्‍़ब नही होता जब
    छलक पड़ती है टप् से
    एक बूँद नयनों के कोटर से
    फैल जाती है स्‍याही
    धुँधला जाते हैं शब्‍द
    पर उनके अर्थ बोलते हैं !!!------

    वाकई शब्द बोलते हैं इनके पास दिल और दिमाग होता है
    आपकी रचना ने यह साबित कर दिया -----
    बहुत सुंदर और सार्थक रचना
    सादर-----

    उत्तर देंहटाएं
  26. जिन्दगी का हर पृष्ठ अनोखा ही होता है
    बहुत खूब ,,,,,
    साभार !

    उत्तर देंहटाएं
  27. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  28. ज़िंदगी का हर पल बदलता रहता है .... और इंसान परिस्थिति वश बदलता जाता है .... बहुत सुंदर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....