गुरुवार, 12 मई 2011

ये खामोशी नहीं ....

पूछा मैने खामोशी से,

तुम यूं ही चुपचाप सी क्‍या सोचती हो

वो बोली मैं सिर्फ दिखने में

खामोश रहती हूं ......

मेरी बोली सुनता मेरा अन्‍तर्मन

पढ़ता है गुजरे पलों को

संजोता है वो

उन यादों को

जिनसे मैं बेहद प्‍यार करती हूं

संवार लेती हूं

यदा-कदा आहत मन को भी

कभी फटकार भी देती हूं इसे

जब यह विचलित होता है

मैं उन्‍हें भी समझती हूं

जो मुझसे प्‍यार करते हैं

और खामोश रहकर

उन्‍हें भी देखती हूं

जो मुझसे ईर्ष्‍या भाव रखते हैं

मेरी सफलता पर

ताने कसते हैं ....

तुम्‍हें घुटन नहीं होती ...?

इस तरह खामोशी के साथ

एक मुस्‍कान लाई लबों पर वो

फिर बोली

अरे यह तो मेरा सम्‍बल है

वर्ना मैं तो

कब की अस्तित्‍वहीन

हो चुकी होती

इसने मुझे शब्‍दों के हथियार दिये

जीने के लिये हौसला दिया

ये खामोशी नहीं ...

मेरी बोली है ...

जिसे हर कोई नहीं समझ पाता

और मुझसे अपनी सफाई में

सबसे हर वक्‍त कुछ

कहा भी नहीं जाता .... !!

30 टिप्‍पणियां:

  1. वाह खामोशी को जुबां दे दी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. per kai baar sochti hun kya hua jo ise bhi samjha use bhi samjha ... apne hisse to khamoshi hai n

    उत्तर देंहटाएं
  3. ख़ामोशी की 'सदा' सुनना बहुत अच्छा लगा.आपके शब्दों के हथियार धारदार हैं ,जो गहराई तक वार करते हैं.
    बहुत बहुत आभार शानदार प्रस्तुति के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत आभार शानदार प्रस्तुति के लिए|

    उत्तर देंहटाएं
  5. खामोशी को भी शब्द दे दिए आपने.
    बहुत अच्छा लगा पढ़ कर.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. khamoshee ko aapne shavd de mukhrit kar diya.......
    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  7. मौन को अंतर्मन ही सुनता है ...खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. मौन को अंतर्मन ही सुनता है कबी कभी मौन बहुत मुखर हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये खमोशी नहीं मेरी बोली है....


    बहुत सुंदर ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. मौन जब कुछ कहता है तो कुहराम भी सुनने को आतुर हो जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. ख़ामोशी के हज़ार रंग , सदा जी के संग . मब अह्वलादित हुआ .

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी आज के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहद उम्दा प्रस्तुति………खामोशी को आवाज़ दे दी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत प्रभावित करती रचना |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह ! जी,
    इस कविता का तो जवाब नहीं !
    विचारों के इतनी गहन अनुभूतियों को सटीक शब्द देना सबके बस की बात नहीं है !

    उत्तर देंहटाएं
  16. जिसे हर कोई नहीं समझ पाता

    और मुझसे अपनी सफाई में

    सबसे हर वक्‍त कुछ

    कहा भी नहीं जाता .... !!

    खामोशी बहुत कुछ कहती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. ख़ामोशी की 'सदा' सुन दिल हुआ निहाल जी.
    बहुत बहुत आभार खामोशी को आवाज देने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  18. ख़ामोशी भी कुछ कहती है, आपने बढ़िया लिखा .

    उत्तर देंहटाएं
  19. prabhaavshali shabdoN ke maadhyam se
    khaamoshi ko
    khoobsurat aawaaz de di aapne

    उत्तर देंहटाएं
  20. ख़ामोशी कि ये अदा हमें प्यारी लगी
    बिन बोले जो लाठी चली वो न्यारी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  21. सच है क्लहामोशी की अपनी ज़ुबान होती है ... लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत प्रभावित करती रचना| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी उत्साह भरी टिप्पणी और हौसला अफजाही के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत सुन्दर और शानदार रचना लिखा है आपने ! बहुत खूबसूरती से ख़ामोशी का वर्णन किया है आपने जो काबिले तारीफ़ है! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्रभावशाली रचना! शुभकामनायें आपको ! !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....