गुरुवार, 11 मार्च 2010

तन्‍हा होने का ...






उसने

हर एक आंसू से धोये

मुहब्‍बत के जख्‍म

तब सारी टीसें

दर्द की चीखने लगीं

इतना समर्पण

तेरा उस प्‍यार के लिये

जो तेरा न हुआ

तू उसकी हो गई

यूं दिलो जां से

उसके दिये हर जख्‍म को

पाक कर दिया

वो मुस्‍कराई

मैने अब दर्द को ही

अपनी दवा कर लिया

इसके होने से

मुझे तन्‍हा होने का

पता भी नहीं लगता

यह हर पल

मेरे साथ रहता है ...।

16 टिप्‍पणियां:

  1. मैने अब दर्द को ही
    अपनी दवा कर लिया
    इसके होने से
    मुझे तन्‍हा होने का
    पता भी नहीं लगता"
    अनूठा उपचार - बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब....

    जब दर्द हद से गुजार जाए तो दवा ही हो जाता है.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. उसने

    हर एक आंसू से धोये

    मुहब्‍बत के जख्‍म

    तब सारी टीसें

    दर्द की चीखने लगीं
    Bahuthi sundar alfaaz aur bhaav!

    उत्तर देंहटाएं
  4. उसने
    हर एक आंसू से धोये
    मुहब्‍बत के जख्‍म
    तब सारी टीसें
    दर्द की चीखने लगीं
    एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut behtrin rachna ,aap to hamare padosi shahar ki hai hamara to wahan aksar jaana hota hai ye dekh adbhut laga

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब....

    जब दर्द हद से गुजार जाए तो दवा ही हो जाता है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. दर्द का दवा बन जाना ,सुंदर एहसास ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर भव हैं लेकिन शिल्प पर आप थोड़ी सी मेहनत और किया कीजिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ख़ूबसूरत एहसास के साथ आपने लाजवाब रचना प्रस्तुत किया है! बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब ....दर्द जब हद से गुजर जाये तो दवा हो जाये .......!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....