बुधवार, 6 जनवरी 2021

मुस्कराहटों के मायने !!!

 मुस्कराहटों के मायने

मत पूछा करो तुम,

दर्द को छिपाने में 

 .... आँसुओं को,

पलकों की ....

कोरों पे रोकने में

अक़्सर ये,

शुभचिंतक हो जाती है!!!

©

    


8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 07.01.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह! अद्भुत सदा सखी जी।
    सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग संग्रह

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....